ज्ञान कुसुम

Just another weblog

25 Posts

10 comments

Gyanesh Kumar Varshney


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

Page 1 of 3123»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

भाई सबसे पहले तो आपको सादर नमस्कार मैने आपका एक लेख प़ढा और जाना कि आप बहुत अच्छे विचारक है सो अपार प्रसन्नता हुयी आप जैसे विद्वान व्यक्ति ने मेरे लेख पर नजर ही नही डाली अपितु उसे ध्यान से भी पढ़ा। आगे आपने जो कहा कि सभी राजनैतिक दल ईस्ट इण्डिया कम्पनी जैसे ही दिखाई देते हैं सो उसका उत्तर यह है कि मैने अपने लेख में पहले ही लिखा है कि कांग्रेस के आदर्शों का अनेकों नेता कर रहै है अतः भारत के जागरुक नागरिकों को बड़े ही ध्यान से नीर क्षीर का विवेक करते हुए सही को अपनाना तथा गलत का विरोध करना होगा।आज सेक्युलरिज्म का अर्थ भारत के हितो पर आघात करना है जो भारत का भारत के नागरिको के विरोध में जितना उँचा सिर उठा दे वही वड़ा सैकुलर तथा पार्टियों का सवसे चहेता।अतः नये नये सैकुलर पैदा हो रहे हैं। अतः हमारी नजर मे वे दल जिनमें सैकुलर छवि दिखाने की जरुरत न पड़े जो जातिवाद को वढ़ावा नही देते जो देश को प्रान्तों में नही वाँटते उन पर तो आप और हम व शायद भारत का भारत प्रेमी समाज विश्वास कर पाए। एसे दलो को आगे लाया जाए।एक शायद भाजपा को इस पैमाने पर रखा जा सकता है। एसी मेरी सोच है आपका अपना ज्ञानेश कुमार

के द्वारा: kanhakid kanhakid




latest from jagran